अब तक भारतीय अर्थव्यवस्था रहती महामारी के पहले वाली स्थिति में : देबरॉय

In News
Facebooktwitteryoutubeby feather

सन्मार्ग संवाददाता

कोलकाता : शुक्रवार को आईसीसीआर में प्रख्यात लेखिका प्रियम गांधी मोदी की पुस्तक ‘अ नेशन टू प्रोटेक्ट’ का विमोचन किया गया। इस विमोचन कार्यक्रम में प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार समिति के चेयरमैन प्रो. बिबेक देबरॉय के अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री दिनेश त्रिवेदी, जादवपुर विश्वविद्यालय के पूर्व वीसी व शिक्षाविद प्रो. अभिजीत चक्रवर्ती और डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी रिसर्च फाउण्डेशन के डायरेक्टर व भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य अनिर्वान गांगुली मौजूद थे। इस मौके पर प्रो. बिबेक देबरॉय ने कहा, ‘पिछली बार इस तरह की कोई महामारी 100 साल पहले आयी थी और इस बार अचानक हमें इस तरह की महामारी का सामना करना पड़ा।’ उन्होंने कहा, ‘महामारी के समय शासन में स्पष्टता की कमी उभरकर सामने आयी थी। कोविड चला गया और उसके बाद लिकर की ऑनलाइन डिलीवरी चालू हुई। हालांकि किस प्रक्रिया के तहत राज्य ने इसकी अनुमति दी? इसकी अनुमति एनडीएमए एक्ट के तहत दी गयी थी। सभी राज्यों को आपदा प्रबंधन की नीतियां बनानी थी, लेकिन कितने राज्यों ने ऐसा किया?’ बिबेक देबरॉय ने कहा कि कोविड जैसी महामारी पर ये पुस्तक है और कोविड के समय प्रवासी श्रमिकों की समस्या हमारे सामने थी जिनकी पोर्टेबिलिटी काफी मुश्किल हो गयी थी। कोविड पर काफी पुस्तकें लिखी गयी हैं, लेकिन इस किताब में बताया गया है कि चीन के लैब से ये वायरस लीक हुआ जिसे यूएस और ब्रिटेन के संस्थानों से फंड मिला था। मैं नहीं कहता कि चीन ने ऐसा किया, लेकिन चीन के लैब से वायरस लीक हुआ। चीन और डब्ल्यूएचओ ने दुनियो को भ्रमिता किया और हमने इसे रोका। कोविड की दूसरी लहर सबसे अधिक खतरनाक थी। वर्ष 2014 से इस सरकार ने ग्रामीण सेक्टर के लिए काफी कुछ किया जिस कारण भारत के ग्रामीण सेक्टर को नहीं भुगतना पड़ा। बिबेक देबरॉय ने कहा, ‘अगर रूस-यूक्रेन संकट नहीं होता तो भारतीय अर्थव्यवस्था अब तक महामारी से पहले वाली स्थिति पर लौट आती।

कई विकसित देशों की तुलना में भारत ने कोविड के समय बेहतर प्रदर्शन किया। इंफेक्शन, मोर्टेलिटी और आर्थिक सुधार के क्षेत्रों में भारत की स्थिति अन्य देशों से बेहतर रही। डब्ल्यूएचओ रिपोर्ट कर रहा था कि भारत में बहुत अधिक मौतें हो रही हैं। लॉकडाउन के समय में मौतों का रजिस्ट्रेशन स्थगित हो गया था। कोविड काल भारत के लिए ऐसा समय था जब उसे अपने ऊपर छोड़ ​दिया गया था और भारत ने खुद पर निर्भर रहकर कर दिखाया, पूरी पुस्तक में यही बात बतायी गयी है।’

Facebooktwitteryoutubeby feather
In News
“চটি পরে চার্টার্ড প্লেনে চড়ে গোয়া, চেন্নাই যাচ্ছেন একজন”, বললেন অনির্বাণ গাঙ্গুলি

Post Views: 26 কলকাতা: শনিবার সকালে অরুণাচল প্রদেশের ইটানগরের কাছে হলঙ্গী নামক একটি জায়গায় গ্রিনফিল্ড বিমানবন্দর উদ্বোধন করেছেন প্রধানমন্ত্রী নরেন্দ্র মোদী। এই বিমানবন্দরের ফলে দেশের বিভিন্ন মহানগরীগুলোর সঙ্গে অরুণাচল প্রদেশের যোগাযোগ ব্যবস্থাকে মজবুত করার জন্য এই বিমানবন্দর অত্যন্ত কার্যকর হবে বলে ধারণা করা হচ্ছে। অরুণাচলের এই প্রথম বিমানবন্দরের ফলে পশ্চিমবঙ্গে …

In News
মুখ্যমন্ত্রী ও তাঁর দল কি আদৌ আদিবাসীদের কথা ভাবেন, প্রশ্ন তুললেন অনির্বাণ

Post Views: 30 দেবী ভট্টাচার্য, কলকাতা: সাড়ে তিন বছর আগে গরমের এক দুপুরে আচমকা জঙ্গলমহলে শুকিয়ে গিয়েছিল শাসকের মুখের হাসি৷ পরিবর্তে ঝাড়গ্রাম, পুরুলিয়া, বাঁকুড়ার রুক্ষ-তল্লাটে উঠেছিল গেরুয়া আবিরের ঝড়৷ একুশের বিধানসভায় শাসক সেই ড্যামেজ কন্ট্রোলে সক্ষম হলেও এলাকার বর্তমান রাজনৈতিক চিত্র অন্য আভাস দিচ্ছে৷ উনিশের লোকসভা ফলের পুনরাবৃত্তি তেইশের পঞ্চায়েতে …

In News
তিলোত্তমায় অনুষ্ঠিত হল বিরসা মুন্ডার জন্মজয়ন্তী এবং জনজাতি গৌরব দিবস

Post Views: 33 কলকাতা: আজ মঙ্গলবার ১৫ নভেম্বর, ভারতের স্বাধীনতা সংগ্রামের ইতিহাসের অন্যতম বীর বিরসা মুন্ডার জন্মজয়ন্তী। এই উপলক্ষ্যে সোমবার সন্ধ্যায় ডঃ শ্যামাপ্রসাদ মুখার্জি ফাউন্ডেশন ও অঙ্কুরের যৌথ উদ্যোগে কলকাতার আইসিসিআর সভাগৃহে অনুষ্ঠিত হল বিরসা মুন্ডার জন্মজয়ন্তী এবং জনজাতি (Janajati) গৌরব দিবস উপলক্ষ্যে বিশেষ আলোচনা চক্র। আলোচনা সভায় বক্তারা ছিলেন, …